सबसे ज्यादा बार ‘नर्वस 90’ का शिकार होने वाले दुनिया के टॉप-10 बल्लेबाज, नंबर-1 हुए 28 बार आउट

क्रिकेट में एक शब्द प्रयोग होता है ‘नर्वस 90’. इसका मतलब जब बल्लेबाज अपने शतक के नजदीक व 90 रन के पार होता है और उस दौरान जब वह आउट हो जाता है तो वह बैट्समैन नर्वस 90 का शिकार कहा जाता है. 90 से लेकर 99 रन के बीच आउट हुई बल्लेबाज इस रोग के शिकार माने जाते है. कुछ बल्लेबाज तो ऐसे हैं जो अपने शतक से मात्र एक रन से कई बार चूक गए हैं. शतक से एक रन चूक जाना कितना दुखदाई होता है इसकी कल्पना नहीं की जा सकती. ऐसे सीन में बल्लेबाज के चेहरे पर दर्द साफ़ तौर पर महसूस किया जा सकता है.
आज हम आपको ऐसे ही कुछ खिलाड़ियों के बारे में बताने जा रहे हैं, जो अपने अंतरराष्ट्रीय करियर में नर्वस 90 का शिकार हो चुके हैं.
नोट :- नीचे दिए गए सभी बल्लेबाजों के नर्वस 90 के आंकड़े टेस्ट और वनडे के है।

 

10- हर्षल गिब्स

100 रन के पास पहुंचते ही क्यों डरने लगते थे ये 10 दिग्गज खिलाड़ी, नं.1 को देखकर बहुत दुख..

 
 

 

9- स्टीव वॉ

 
 

 

8- अरविन्द डी सिल्वा

 
 

 

7- नाथन एस्टल

 
 

 

6- मैथ्यू हेडेन

 
 

 

5- इंज़माम उल हक़

 
 

 

4- रिकी पोंटिंग

 
 

 

3- जैक्स कैलिस

 
 

 

2- राहुल द्रविड़

 
 

 

1- सचिन तेंदुलकर

 
 

सचिन तेंदुलकर टेस्ट और एक-दिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में सर्वाधिक बार ‘नर्वस नाइंटीज़’ का शिकार होने वालों की सूची में शीर्ष पर हैं। टेस्ट मैचों में वह 10 बार, एक-दिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैचों में 18 बार (एक बार नाबाद सहित) नर्वस नाइंटीज़ का शिकार बने। सो, अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में शतकों का शतक ठोकने का विश्वरिकॉर्ड बनाने वाले सचिन तेंदुलकर के करियर में 28 मौके ऐसे आए, जब वह शतक के करीब पहुंचने के बावजूद उसे हासिल नहीं कर पाए।
यदि सचिन इन मौकों पर भी सेन्चुरी मार देते तो उनके नाम कुल 128 सेंचुरी इंटरनेशनल सेंचुरी होतीं और उनका ये रिकॉर्ड शायद ही कभी कोई तोड़ पाता। फिलहाल 100 सेन्चुरी के रिकॉर्ड के सबसे नजदीक विराट कोहली (70) हैं और वो ये रिकॉर्ड तोड़ भी सकते हैं।


दोस्तो, आप के अनुसार अगर 28 बार 99 रन पर भगवान सचिन तेंदुलकर आउट ना होते और शतक लगाते तो उनके शतक लगाने का रिकॉर्ड कोई बल्लेबाज आज तोड़ पाता, या नहीं ?.. तो कृपया करके आप अपनी राय हमारे नीचे कमेंट बॉक्स में अवश्य दें।

Comments are closed.