मुस्लिम लोग सिर्फ दाढ़ी क्यूँ रखते हैं मूंछें क्यूँ नहीं? कभी सोचा है

कभी सोचा है आपने , मुस्लिम लोग सिर्फ दाढ़ी रखते हैं मूंछें क्यों नहीं

 
 

सिर पर टोपी, कुर्ता-पायजामा और बढ़ी दाढ़ी यह हुलिया देख आप मुस्लिम लोगों की पहचान कर लेंगे लेकिन आपने कभी गौर किया है कि मुसलमान धर्म में अधिकतर लोग दाढ़ी तो रखते हैं लेकिन मूंछें नहीं रखते हैं पता है ऐसा क्यों होता है दरअसल, इसके पुरानी रीत और भौगोलिक कारण हैं |

 
 

इस्लाम से पहले अरब में लोग प्राकृतिक देवी-देवताओं की मूर्ति बनाकर पूजा करते थे जबकि इस्लाम इसके उलट है वह निराकार अल्लाह में विश्वास करता है एक हदीस के मुताबिक हजरत मोहम्मद सल्ललाहो अलैही वसल्लम ने कहा था कि उन प्राकृतिक देवी-देवताओं के विपरीत करो चूंकि वह बड़ी मूंछें रखते थे और दाढ़ी साफ करा देते थे इसलिए मुस्लिम इसके विपरीत करने लगे और मूंछें कटाने लगे |

 
 

वहीं, एक अन्य मत है कि मुस्लिमों में मूंछें कटाकर रखना अरब संस्कृति का हिस्सा है चूंकि वहां अक्सर रेतीली हवाएं चलती रहती हैं यही कारण है कि रेत के कण लोगों की मूंछों में फंस जाते थे खाना खाते वक्त वे उनके मुंह में चले जाते थे इस वजह से वे अपनी मूंछें छोटी कराने या उन्हें कटाने का रिवाज शुरू हो गया |

Comments are closed.