लव शायरी जो आपके दिल तक दस्तक दे जरुर पढ़े

एक उमर बीत चली है तुझे चाहते हुए,

तू आज भी बेखबर है कल की तरह।


अना कहती है इल्तेजा क्या करनी,

वो मोहब्बत ही क्या जो मिन्नतों से मिले।


मुकम्मल ना सही अधूरा ही रहने दो,

ये इश्क़ है कोई मक़सद तो नहीं है।


तुझे चाहते हुए लव शायरी जरुर पढ़े

वजह नफरतों की तलाशी जाती है,

मोहब्बत तो बिन वजह ही हो जाती है।


गुफ्तगू बंद न हो बात से बात चले,

नजरों में रहो कैद दिल से दिल मिले।


है इश्क़ की मंज़िल में हाल कि जैसे,

लुट जाए कहीं राह में सामान किसी का।

Comments are closed.