जब निगाहें उठा कर देखते हैं वो मेरी तरफ, तब वो ही पल मेरे लीये पूरी कायनात होती है।

बहुत सुकून मिलता है जब उनसे हमारी बात होती है,

वो हजारो रातों में वो एक रात होती है,

जब निगाहें उठा कर देखते हैं वो मेरी तरफ,

तब वो ही पल मेरे लीये पूरी कायनात होती है।

बहुत सुकून मिलता है जब उनसे हमारी बात होती है, वो हजारो रातों में वो एक रात होती है

एक फूल का दर्द उसकी जुकि डाली समझते हे,

बाग की बात बाग का माली ही समझते हे,

ये किस तरह की रात बनाई हे दुनियावाले ने,

दिए का दिल जलता हे और लोग रोशनी समजते हे

बदलना आता नहीं हमें मौसम की तरह,

हर इक रुत में तेरा इंतज़ार करते हैं,

ना तुम समझ सकोगे जिसे क़यामत तक,

कसम तुम्हारी तुम्हें इतना प्यार करते हैं।

Comments are closed.