राहुल की माँ- बेटा तुझे कितनी बार समझाया है… उस चायवाले से मत उलझा कर…

एक बार राहुल अपनी पत्नी को लेने ससुराल जा रहा था,रास्ते में चायवाले के पास चाय पीने...

एक बार राहुल अपनी पत्नी को लेने ससुराल जा रहा था,

रास्ते में चायवाले के पास चाय पीने रुक गया…

चायवाला – कहाँ जा रहे हो?

राहुल – अपनी पत्नी को लेने ससुराल जा रहा हूँ।

चायवाला – अब कोई फायदा नहीं हैं वहां जाने का।

राहुल – क्यों?

चायवाला – क्योंकि, वो तो विधवा हो गई है।

राहुल रास्ते से ही अपने गांव वापस आ गया

राहुल की माँ – खाली हाथ कैसे आया है…

बहु को कहाँ छोड़ कर आ गया ?

राहुल-माँ…

चायवाले ने कहा कि वो तो विधवा हो गई, इसलिये लाया ही नहीं।

राहुल की माँ- कलमुहें..

तेरे जिंदा रहते वो विधवा कैसे हो सकती है?

राहुल – माँ….

मेरे जिंदा रहते, तू भी तो विधवा हो गई।

राहुल की माँ- नालायक…

मैं तो विधवा इसलिए हो गई थी क्योंकि तेरा बाप मर गया था।

राहुल – तो शायद उसका भी बाप मर गया होगा।

राहुल की माँ बेटा तुझे कितनी बार समझाया है…

उस चायवाले से मत उलझा कर…

अगर आपको यह चुटकुले पसंद आई हो तो आप इसे लाइक और शेयर कर दें जिससे और भी लोग हंस पाए और हमें कमेंट कर के जरूर बताए कि आपको इन में से कौनसा चुटकुला सबसे ज्यादा पसंद आया और इसी तरह के चुटकुलों को पढ़ते रहने के लिए हमें फॉलो करना ना भूलें ।

Comments are closed.