जब कभी हुई हे आप से ज़िंदगी मे ग़लती, तब हमने दुआ मे अपने लिए सज़ा माँगी हे।

खुदा से पूछो हर पल आपके लिए दुआ माँगी हे, बहारो से पूछो आप के लिए ही फ़िज़ा माँगी हे,

जब कभी हुई हे आप से ज़िंदगी मे ग़लती, तब हमने दुआ मे अपने लिए सज़ा माँगी हे।

 

तेरे बगैर किसी और को देखा नहीं मैंने,सूख गया तेरा गुलाब मगर फेंका नहीं मैंने।

लिख भी दो अब दो शब्द दोस्ती के तुम मेरे लिये,कह दो दोस्त हो तुम अब जिंदगी भर के लिये,

तेरे बगैर किसी और को देखा नहीं मैंने,सूख गया तेरा गुलाब मगर फेंका नहीं मैंने।

तुम न आए तो क्या सहर न हुई,हाँ मगर चैन से बसर न हुई,

मेरा नाला सुना ज़माने ने,एक तुम हो जिसे ख़बर न हुई।

 

 

कागज की कश्ती में सवार है हम,फिर भी कल के लिये परेशान है हम,

वो जो दो पल थे तेरी और मेरी मुस्कान के बीच,

बस वहीँ कहीं इश्क़ ने जगह बना ली।

 

 

 

हर पल प्यार का वादा है तुमसे, अपनापन हद से ज्यादा है तुमसे,

कभी ये न सोचना कि भूल जायेंगे तुम्हें, जिंदगी भर साथ निभाने का वादा है तुमसे।

कृपया हमारी पोस्ट कैसी लगी,हम आपके लिए ऐसे ही नई-नई पोस्ट लाते रहेंगे। 

Comments are closed.