नेचर का हर रंग आप पर बरसे ,हर कोई आपसे होली खेलने को तरसे ,रंग दे आपको सब मिलकर इतना कि वह रंग उतरने को तरसे….

सिर्फ प्यार का ही नहीं इस बार दुआओं का भी रंग लगाना

होली का त्योहार प्रत्येक वर्ष मार्च के महीने में मनाया जाता है। हिंदू कैलेंडर के अनुसार इस त्यौहार को फाल्गुन मास में मनाने की प्रथा है । यह त्यौहार प्रमुख रूप से दो दिनों का होता है । जिसमें पहले दिन होली दहन किया जाता है, जिसमें लकड़ियाँ और गोबर के कंडे डालकर होलिका दहन किया जाता है ।

पुरानी कथा के अनुसार हिरण्यकश्यप नाम का एक बहुत बड़ा राक्षस हुआ करता था । जिसने वर्षों की तपस्या करके भगवान ब्रह्मा जी को प्रसन्न कर दिया, जिसके बाद ब्रह्मा जी के वरदान स्वरूप हिरण्यकश्यप को ना दिन में ना रात में, ना देवता ना मनुष्य, ना ही कोई जानवर और ना ही किसी प्रकार के हथियार से मारा जा सकता था ।

दोस्तों मेरा ये आर्टिकल लाइक , शेयर व कॉमेंट करें, इससे मुझे और अच्छा करने का हौसला मिलेगा । मैं हमेशा ऐसे ही आर्टिकल लेकर आती रहूँगी इसलिये आप मेरी लिंक को जरूर फॉलो करें ।