साथ चलने के लिए साथी चाहिए, आंसू रोकने के लिए मुस्कान चाहिए। जिंदा रहने के लिए जिंदगी चाहिए और..

साथ चलने के लिए साथी चाहिए,

आंसू रोकने के लिए मुस्कान चाहिए।

जिंदा रहने के लिए जिंदगी चाहिए और

जिंदगी जीने के लिए आप चाहिए।

डीपी : प्यार की आंच से तो पत्थर भी पिघल जाता हैं

मोहब्बत रहे या ना रहे मगर मुझ पर,

उस शख्स की दरियादिली लाजिम है।

प्यार की आंच से तो पत्थर भी पिघल जाता हैं,

सच्चे दिल से साथ दे तो नसीब भी बदल जाता हैं।

प्यार की राहों पर अगर मिल जाये सच्चा हमसफ़र,

तो प्यार वो एहसास है जिससे हर इंसान संभल जाता हैं।

कुछ तस्वीर बाकी हैं अभी तक तेरी यादों की,

ये दिल खाली नहीं किसी और के लिये।

चाहा तो बहुत मिटा दूं इन तस्वीरों को,

पर मुमकिन नहीं ये उस इंसान के लिये।

कब तक वो मेरा होने से इंकार करेगा,

खुद टूट कर वो एक दिन मुझसे प्यार करेगा।

इश्क की आग में उसको इतना जला देंगे,

कि इजहार वो मुझसे सर ए बाजार करेगा।

दोस्तों, आज की आर्टिकल आपको कैसी लगी हमें कमेंट करके जरूर बतायें। ऐसी ही अलग तरह की व्हाट्सएप डीपी के लिये हमें लाइक और फॉलो करना ना भूलें।

Comments are closed.