मैंने सब कुछ पाया बस तुझको पाना बाकी है यूं तो मेरे घर में कुछ कमी नहीं बस तुझको आना बाकी है

मैं भिखारी भी बन जाऊं तेरी खातिर कोई डाले तो सही तुझे मेरी झोली में

दोस्त कभी खरीदे नहीं जाते यह वह कमी ना होते हैं

जो आपको कभी शरीफ नहीं देखना चाहते.

मैं भिखारी बन जाऊं तेरी खातिर

कोई डाले तो सही तुझे मेरी झोली में ।

मैंने सब कुछ पाया बस तुझको पाना बाकी है

यूं तो मेरे घर में कुछ कमी नहीं बस तुझको आना बाकी है ।

जिंदगी ले लेना मेरी अपनी मुंह दिखाई में

लेकिन तुम आओ तो सही मेरी दुल्हन बनके ।

जब जान प्यारी थी तो दुश्मन हजारों थे

अब मरने का शौक है तो कातिल ढूंढने से नहीं मिलते ।

आपको शायरी पसंद आए तो इसे लाइक करें और फॉलो करें ।

Comments are closed.