अपनी हर सांस में आबाद किया है तुमको, ऐ मेरी जान बहुत याद किया है तुमको।

अपनी हर सांस में आबाद किया है तुमको,

ऐ मेरी जान बहुत याद किया है तुमको।

मेरी जिंदगी में तुम नहीं तो कुछ भी नहीं,

अपनी जिंदगी से ज्यादा प्यार किया है तुमको।

गुड मॉर्निंग : कोई शर्त नहीं कोई शिकायत नहीं, मोहब्बत है तुमसे दीदार की चाहत है

हर इल्जाम का हकदार वो हमे बना जाते है,

हर खता कि सजा वो हमे सुना जाते है।

हम हर बार चुप रह जाते है,

क्योंकि वो अपना होने का हक जता जाते है।

रिश्ते का नाम जरूरी नहीं होता मेरे दोस्त,

कुछ बेनाम रिश्ते रुकी जिंदगी को सांस देते है।

कोई शर्त नहीं कोई शिकायत नहीं,

मोहब्बत है तुमसे दीदार की चाहत है।

तेरी यादों की नौकरी में गजल की पगार मिलती है,

खर्च हो जाते है झूठे वादे और वफा कहां उधार मिलती है।

दोस्तों, यह पोस्ट लाइक और शेयर करें।

Comments are closed.