सुप्रभात – प्यारी सुबह आई सबके लिए खुशियाँ लेकर

प्यारी सुबह आई सबके लिए खुशियाँ लेकर - सुप्रभात

प्यारी सुबह आई सबके लिए खुशियाँ लेकर- सुप्रभात

सुबह जब भी आती है सबके लिए बस खुशियाँ लाती है, हर चेहरे पर हँसी सजाने, हर आँगन में फूल खिलाने, जो रोये हैं उन्हें हँसाने, जो रूठे हैं उन्हें मनाने , जो बिछड़े हैं उन्हें मिलने प्यारी सुबह आई सबके लिए खुशियाँ लेकर ।

Impossible को गौर से देखो, वो खुद कहता है “I m Possible” बस, देखने का नजरिया बदल दो और नामुमकिन को मुमकिन कर लो। यही सत्य है उदास होने के लिए उम्र पड़ी है, नज़र उठाओ सामने जिंदगी खड़ी है ।

शुरुआत करने के लिए महान होने की ज़रुरत नहीं है, पर महान होने के लिए शुरुआत करनी पड़ती है। उठो और जोश के साथ इस दिन पर धावा बोल दो ।

Comments are closed.