वैसे लोग तो मिल जाते है हर मोड़ पर,पर आपकी तरह हर कोई अनमोल नहीं होता।

 

वैसे लोग तो मिल जाते है हर मोड़ पर,पर आपकी तरह हर कोई अनमोल नहीं होता, गुड नाइट दोस्तों।

दिल के दरिया में धड़कन की कश्ती है,ख़्वाबों की दुनिया में यादों की बस्ती है,

मोहब्बत के बाजार में चाहत का सौदा है,वफ़ा की कीमत से तो बेवफाई सस्ती है।

दे दो अपना हाथ हाथो में हमारे, रहना है दिल को साथ तुम्हारे,

यू ही नहीं रहते खोए हुए हम, हमें आते है हर सुबह ख्याल तुम्हारे।

 

 

भंवर से निकलकर किनारा मिला है,जीने को फिर से एक सहारा मिला है,

बहुत कशमकश में थी ये ज़िंदगी मेरी,उस ज़िंदगी में अब साथ तुम्हारा मिला है,

मुस्कराहट का कोई मोल नहीं होता,कुछ रिश्तो का कोई तोल नहीं होता,

वैसे लोग तो मिल जाते है हर मोड़ पर,पर आपकी तरह हर कोई अनमोल नहीं होता।

बहुत खामोश हो कर तुझे मैं देखता रहा, कहते है इबादत में बोला नहीं जाता।

इश्क करने वालों का यही हश्र होता है दर्द-ए-दिल होता है रह रह के सीने में, बंद होंठ कुछ ना कुछ गुनगुनाते ही रहते हैं खामोश निगाहों का भी गहरा असर होता है।

 

 

बहुत खामोश हो कर तुझे मैं देखता रहा, कहते है इबादत में बोला नहीं जाता।

इश्क करने वालों का यही हश्र होता है दर्द-ए-दिल होता है रह रह के सीने में, बंद होंठ कुछ ना कुछ गुनगुनाते ही रहते हैं खामोश निगाहों का भी गहरा असर होता है।

Comments are closed.