जाते जाते उसने पलटकर सिर्फ इतना कहा मुझसे,मेरी बेवफायी से ही मर जाओगे या मार के जाऊ!!

शायरी लिखना बंद कर दूंगा अब मैं यारो..

मेरी शायरी की वजह से दोस्तों की आँखों में आंसू अब देखे नहीं जाते..!!

जाते जाते उसने पलटकर सिर्फ इतना कहा मुझसे,मेरी बेवफायी से ही मर जाओगे या मार के जाऊ!!

 

मेरी शायरी की वजह से दोस्तों की आँखों में आंसू अब देखे नहीं जाते।

 

ठहर सके जो.. लबों पे हमारे,हँसी के सिवा, है मजाल किसकी।

तुम पल भर के लिए दूर क्या जाते हो,तो हम ‘बिखरने’ से लगते हैं..

तुम पल भर के लिए दूर क्या जाते हो,तो हम ‘बिखरने’ से लगते हैं..

जींदगी गुझर गई सारी कांटो की कगार पर,

और फुलो ने मचाई है भीड़ हमारी मझार पर!!

 

 

देखते हैं अब क्या मुकाम आता है साहेब,सूखे पत्ते को इश्क़ हुआ है बहती हवा से..!!

मैने जो पुछा उनसे कि.. यूँ बात बात पे रूलाते क्युँ हो..

वो बङे प्यार से बोली, मुझे बहता हुआ पानी बेहद पंसद है.

 

 

जब नफरत करते-करते थक जाओ..।तो एक मौका प्यार को भी दे देना।।

खामोशियाँ – बहुत कुछ कहती हैं,

कान नही दिल लगा कर सुनना पड़ता है.।

सुनो तुम मेरी जिद नहीं जो पूरी हो…

तुम मेरी धड़कन हो जो जरुरी हो..

Comments are closed.