तेरे बगैर किसी और को देखा नहीं मैंने सूख गया तेरा गुलाब मगर फेंका नहीं मैंने।

1. वो लोग कभी नही रूठते, जिनको मनाने वाला कोई नही होता।

2. चाहत है तो सिर्फ तेरे साथ जीने की बिन तेरे जीने की हमारी कोई ख्वाहिश नहीं है, आँसू हे प्यार मे दर्द हे प्यार मे दर्द भी हे प्यार मे हार भी हे प्यार मे तन्हाई हे प्यार मे।

वो लोग कभी नही रूठते, जिनको मनाने वाला कोई नही होता

3. लिख भी दो अब दो शब्द दोस्ती के तुम मेरे लिये कह दो दोस्त हो तुम अब जिंदगी भर के लिये, तेरे बगैर किसी और को देखा नहीं मैंने सूख गया तेरा गुलाब मगर फेंका नहीं मैंने।

4. जब इन आँखों मे किसी की चाहत बस्ती है तभी इस दिल को राहत मिलती है, हम उनको कैसे भूल सकतें है अब हमारे लिए वही तो हमारी आदत बन गयी है।

Comments are closed.