एकदिवसीय सिरीज से पहले जाने भारत और न्यू ज़ीलैंड की ‘ताकत और कमजोरियाँ’

23 जनवरी से शुरू होने वाली एकदिवसीय सीरीज दोनों ही देशो के लिए वर्ल्डकप के नजरिये से बहुत ही महत्वपूर्ण होने वाली है। दोनों ही देश इस सिरीज को जीतने में जीजान लगाने को तैयार हैं। 

सबसे पहले बात करते है न्यूज़ीलैंड की ताकत की तो उनकी सबसे पहली तागत होनी उनका घरेलु मैदान जी हाँ कोई भी टीम अपने घरेलु मैदान में घातक साबित होती है। अगर दुसरे नो. की बात की जाये तो वह होगी न्यू ज़ीलैंड की बल्लेबाजी जिसमे केन विलियमसन, मार्टिल गुप्टिल, कॉलिन मुनरो, रोष टेलर, हेनरी निखोसल,लाथम, ग्रैंड होम, और सैंटनर जैसे धुरंधर बल्लेबाज शामिल है।

तीसरी तागत की अगर बात की जाये तो वो होगी न्यूज़ीलैंड की तेज गेंदबाजी जो की बहुत ही धार-दार होने वाली है जिसमे बोल्ट, टिम साउदी, मेट हेनरी और लोकी फर्ग्यूसन हैं जो किसी की बल्लेबाजी लाइनअप को धरासाही करने की तागत रखते हैं।

 

 

 

 

 

 

 

और वही अगर बात की जाये टीम इंडिया की सबसे बड़ी तागत की तो यह बात तो सब जानते हैं भारत की तागत उसकी बल्लेबाजी है जिसमे रोहित शर्मा, शिखर धवन, विराट कोहली, महेंद सिंह धोनी, दिनेश कार्तिक, अम्बत्ति रायडू, केदार जाधव, रविन्द्र जडेजा, और संकर जैसे वर्ल्ड क्लास बल्लेबाज शामिल है जो किसी भी देश को धूल चटाने का माद्दा रखती है।

 

 

 

 

 

 

 

वहीँ अगर भर की दूसरी ताकत की बात की जाए तो वह होगी स्पिन गेंदबजी दुनिया जानती है कुलदीप यादव और याजुवेंद्र चहल की स्पिन से पार पाना किसी भी बल्लेबाज के लिए आसान नहीं होने वाला और रविन्द्रा जडेजा भी किसी से कम नहीं हैं।

 

वही अगर बात की जाये दोनों टीम की कमजोरी की तो टीम इंडिया के लिए उसकी फ़ास्ट बोलिंग मुश्किल का सबब साबित हो सकती है। क्युकी जसप्रीत बुमराह की गैरमौजूदगी में भारतीय तेज गेंदबाजी में वह धार नहीं नजर आती है। वहीं न्यू-ज़ीलैंड का स्पिन डिपार्टमेंट भारत के मुकाबले कहीं नहीं ठेहरता।