सचिन से भी ज्यादा खतरनाक था ये बल्लेबाज लेकिन अचानक हो गया गुमनाम, पहले 8 मैच में लगाए थे 2 शतक और 2 दोहरे शतक

क्रिकेट और क्रिकेट खेलने वाले खिलाड़ियों की लोकप्रियता बहुत ज्यादा है। जब भी कोई खिलाड़ी अच्छा प्रदर्शन करता है तो वह मशहूर हो जाता है। लेकिन क्रिकेट जगत में लंबे समय तक राज करने के लिए खिलाड़ियों को लगातार अच्छा प्रदर्शन करना पड़ता है। हालांकि कुछ खिलाड़ी ऐसे भी हैं, जो शुरुआती करियर में अच्छा प्रदर्शन करने के बाद गुमनाम हो गए।

ऐसे ही एक खिलाड़ी हैं विनोद कांबली जिन्हें एक समय सचिन तेंदुलकर से भी अच्छा बल्लेबाज माना जाता था। विनोद कांबली और सचिन तेंदुलकर ने हैरिस शील्ड ट्रॉफी में 664 रन की नाबाद पार्टनरशिप की थी। उस समय विनोद कांबली 16 साल के थे, जबकि सचिन तेंदुलकर 15 साल के थे। विनोद कांबली ने 349 रन बनाए थे, जबकि सचिन ने 326 रन बनाए थे। इसके अलावा विनोद कांबली ने इस मैच में 37 रन देकर 6 विकेट लिए थे।

गुरु रमाकांत आचरेकर भी सचिन तेंदुलकर से ज्यादा विनोद कांबली को टैलेंटेड मानते थे। लेकिन विनोद कांबली गुमनामी की जिंदगी जी रहे हैं। विनोद कांबली ने डेब्यू करते ही क्रिकेट जगत में धमाल मचा दिया। उन्होंने पहले 8 मैचों में दो दोहरे शतक और 2 शतक लगाए थे। लेकिन उनका करियर ज्यादा लंबा नहीं टीका। उनको टीम से बाहर कर दिया गया।

विनोद कांबली ने आरोप लगाया था कि राजनीति और पक्षपात की वजह से उनका करियर इतनी जल्दी खत्म हो गया। हालांकि इन बातों में सच्चाई नहीं थी। विनोद कांबली ने क्रिकेट में फ्लॉप होने के बाद कई क्षेत्रों में हाथ आजमाए। लेकिन उन्हें सफलता नहीं मिली। कांबली ने फिल्मों में भी काम किया। लेकिन उन्हें सफलता नहीं मिली। आजकल वह क्रिकेट एक्सपर्ट की भूमिका में नजर आते हैं।

Comments are closed.